वाराणसी : व्यवसायी का बेटा कार्तिक बरामद, तीन गिरफ्तार, सरगना फरार

नारस- गुरूवार की शाम लक्सा थानाक्षेत्र के सिध्दगिरीबाग निवासी व्यवसायी अनिल बजाज के बच्चे का अपहरण हो गया। इस सूचना पर हड़कंप मच गया। पुलिस के साथ साथ स्थानीय लोग भी बच्चे की तलाश में लगे थे। अनिल बजाज के लड़के का अपहरण नाटकीय ढंग से किया गया था। वहीं स्थानीय लोगों ने देर रात बच्चे को सिगरा स्टेडियम के सामने स्थित होटल अशोक के बेसमेंट से बरामद करते हुए तीन लड़कों को पुलिस के हवाले कर दिया। वहीं मौके पर मुख्य सरगना ऋषि सिंह नहीं मिला जिसकी तलाश जारी है।

इस सम्बन्ध में बात करते हुए अनिल बजाज ने बताया कि सिद्धगिरी बाग निवासी ऋषि सिंह नामक युवक मुंह बांधकर कल शाम मेरे घर आया। उस वक़्त मेरा बेटा कार्तिक घर में अकेला था। अकेला बच्चा घर पर होने के कारण उस पर दबाव बनाते हुए घर की तिजोरी की चाबी मांग ली और तिजोरी में रखा सोना निकल लिया। इस दौरान उसने मेरे बेटे को धमकाया कि यदि किसी को बताया तो तुम्हारी मम्मी हमारे कब्ज़े में हैं उन्हें मार देंगे। उसके बाद वो उसे लेकर अशोका होटल लेकर पहुंचे और उसके बेसमेंट में बंद कर दिया।

अनिल बजाज ने बताया कि हमें जब इस बात की सूचना मिली तो हम लोग होटल अशोक पहुंचे रात के दो बजे और उसके बेसमेंट से कार्तिक के साथ सिगरा निवासी राजू नामक व्यवसायी, बाबू और विकास यादव निवासी औरंगाबाद लक्सा थाना को पकड़कर पुलिस के सुपुर्द किया। मौके पर मुख्य अभियुक्त कस्तूरबा नगर निवासी भाजपा नेता बंटी सिंह का बेटा ऋषि सिंह नहीं मिला।

वहीं इस सम्बन्ध में सीओ दशाश्वमेध ने बताया कि अपहरण का मामला कल प्रकाश में आया था। इस सम्बन्ध में हमने तीन लोगों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछ ताछ की जा रही है। सीसीटीवी फुटेज हमने कब्ज़े में लिया है जांच के बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। बता दें कि साल 2006 में वाराणसी के सबसे चर्चित चिराग हत्याकांड के तार भी इसी घर से जुड़े हुए हैं। साल 2006 में ढाई साल के चिराग की हत्या कर उसका शव गंगा उस पार रेती में दबा दिया गया था। चिराग अनिल बजाज का ही पुत्र था और कार्तिक का भाई था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *